MY DIVINE LOVE - Sant Sri Alpa Ma Bhajans
MY DIVINE LOVE - Sant Sri Alpa Ma Bhajans
View Hymn (Bhajan)

Hymn No. 2429 | Date: 21-May-19981998-05-21पल-पल मैं कही खो जाता हूँ, कदम-कदम पर मैं तो रूक जाता हूँ।https://www.mydivinelove.org/bhajan/default.aspx?title=palapala-maim-kahi-kho-jata-hum-kadamakadama-para-maim-to-ruka-jata-humपल-पल मैं कही खो जाता हूँ, कदम-कदम पर मैं तो रूक जाता हूँ।

मुझे तू कही खोने ना देना, मुझे तू कही रूकने ना देना।

मैं तुझमें खोना चाहता हूँ, मैं तुझ तक पहुँचना चाहता हूँ।

बड़ी मुश्किल से पाए है ये इरादे मैंने, जिंदगी में, तू इन्हे बदलने ना देना।

बदलते है पल-पल इरादे मेरे, मेरे इन इरादों को प्रभु तू सँभाल लेना।

खुद हैरान हूँ अपनी अस्थिरता से, कुछ अपनी स्थिरता मुझे भेज देना।

खोना चाहता हूँ मैं सिर्फ तुझमें, कही और खो जाऊँ ये बात तू पसंद ना करना।

इधर-उधर के खयालों से, ऐ खुदा अब मैं फुरसत चाहता हूँ।

बदली बहुत राहें, बदली बहुत मंजिलें, ना अब मैं बदलना चाहता हूँ।

तेरी मोहब्बत में ही अब अपना मुकाम चाहता हूँ, पल में ...

पल-पल मैं कही खो जाता हूँ, कदम-कदम पर मैं तो रूक जाता हूँ।
View Original
Increase Font Decrease Font
 
पल-पल मैं कही खो जाता हूँ, कदम-कदम पर मैं तो रूक जाता हूँ।

मुझे तू कही खोने ना देना, मुझे तू कही रूकने ना देना।

मैं तुझमें खोना चाहता हूँ, मैं तुझ तक पहुँचना चाहता हूँ।

बड़ी मुश्किल से पाए है ये इरादे मैंने, जिंदगी में, तू इन्हे बदलने ना देना।

बदलते है पल-पल इरादे मेरे, मेरे इन इरादों को प्रभु तू सँभाल लेना।

खुद हैरान हूँ अपनी अस्थिरता से, कुछ अपनी स्थिरता मुझे भेज देना।

खोना चाहता हूँ मैं सिर्फ तुझमें, कही और खो जाऊँ ये बात तू पसंद ना करना।

इधर-उधर के खयालों से, ऐ खुदा अब मैं फुरसत चाहता हूँ।

बदली बहुत राहें, बदली बहुत मंजिलें, ना अब मैं बदलना चाहता हूँ।

तेरी मोहब्बत में ही अब अपना मुकाम चाहता हूँ, पल में ...



- संत श्री अल्पा माँ
Lyrics in English


pala-pala maiṁ kahī khō jātā hūm̐, kadama-kadama para maiṁ tō rūka jātā hūm̐।

mujhē tū kahī khōnē nā dēnā, mujhē tū kahī rūkanē nā dēnā।

maiṁ tujhamēṁ khōnā cāhatā hūm̐, maiṁ tujha taka pahum̐canā cāhatā hūm̐।

baḍa़ī muśkila sē pāē hai yē irādē maiṁnē, jiṁdagī mēṁ, tū inhē badalanē nā dēnā।

badalatē hai pala-pala irādē mērē, mērē ina irādōṁ kō prabhu tū sam̐bhāla lēnā।

khuda hairāna hūm̐ apanī asthiratā sē, kucha apanī sthiratā mujhē bhēja dēnā।

khōnā cāhatā hūm̐ maiṁ sirpha tujhamēṁ, kahī aura khō jāūm̐ yē bāta tū pasaṁda nā karanā।

idhara-udhara kē khayālōṁ sē, ai khudā aba maiṁ phurasata cāhatā hūm̐।

badalī bahuta rāhēṁ, badalī bahuta maṁjilēṁ, nā aba maiṁ badalanā cāhatā hūm̐।

tērī mōhabbata mēṁ hī aba apanā mukāma cāhatā hūm̐, pala mēṁ ...

Increase Font Decrease Font

Explanation in English
Every moment I seem to lose my bearings, every step I seem to be stopping.

You take care, do not let me get lost and do not let me stop.

I want to lose myself in you, I want to reach upto you.

With lot of difficulty I have made up my mind in life, you take care that I should not change my mind.

My mind changes its goal every now and then, Oh God, take care of my determination.

I am myself amazed at my unsteadiness, please send me a little bit of your stability.

I want to lose myself only in you; to lose myself somewhere else, Oh God you do not accept it.

From these wavering thoughts Oh God, I now want to be free.

I have changed lot of paths and changed lot of goals, now I do not want to change.

Your love is my goal, I only wish to rest in your love.