Welcome to My Divine Love

Hymn No. 3227
| Date: 06-Feb-1999
बार-बार हम कई चेहरे देखते है
बार-बार हम कई चेहरे देखते है,
कभी मिले उनपे प्यार छाया, तो कभी अन्य भाव रहते है ।
एक तेरा ही चेहरा ऐसा है, जिस पर हमने सदा प्रसन्नता पाई है,
ना कभी नाराजगी, ना कभी उदासी, बस प्यार छलकता पाया है ।
प्रभु पाया जो तेरे मुखारविंद में, ना कही और वह पाया है,
शायद इसलिए ही तू मुझे सबसे ज्यादा भाया है ।
दीवानगी का छलकता जाम तेरी आखों में, हमने हर वक्त पाया है,
बदलते है चेहरे हमारे संजोगो के अनुसार ना इसमें फर्क आया है,
पर तेरे चेहरे पर कभी भी हमने संजोगों का श्रृंगार ना पाया है,
प्रसन्नता से भरपूर तेरा चेहरा, हमने सदा प्रसन्न ही तुझे पाया है ।
- संत श्री अल्पा माँ

ABOUT AUTHOR

Alpa Furia


Sant Sri Alpa Ma was born on the 25th of June, 1973 in Talwana in Kutch District in Gujarat State, India.

VIEW MORE





MY Divine Love

MY DIVINE LOVE

MOBILE APP

My Divine Love App keeps the good vibes flowing throughout your day with inspiring hymns and quotes.

Google Play

App Store