MY DIVINE LOVE - Sant Sri Alpa Ma Bhajans
MY DIVINE LOVE - Sant Sri Alpa Ma Bhajans
View Hymn (Bhajan)

Hymn No. 2462 | Date: 11-Jun-19981998-06-11क्यों करुँ मैं फिक्र मेरी जब तू सँभालनेवाला, क्यों डरु मैं जग से जब तू है हाथ थामनेवाला।https://www.mydivinelove.org/bhajan/default.aspx?title=kyom-karum-maim-phikra-meri-jaba-tu-sambhalanevala-kyom-daru-maim-jagaक्यों करुँ मैं फिक्र मेरी जब तू सँभालनेवाला, क्यों डरु मैं जग से जब तू है हाथ थामनेवाला।

क्यों ना आए अंत मेरी उलझनों का, कि तू है मेरी उलझने सुधारनेवाला।

कैसे टिके पास मेरे अँधेरा, के जहाँ तू है मुझे प्रकाश देनेवाला।

मस्ती में क्यों ना रहूँ हरदम, जब तू है मस्त रहनेवाला।

क्यों करुँ गिला-शिकवा किसीसे, जब तू ही तो मुझे प्यार करनेवाला।

क्यों लूँ ऐसे शस्त्र का सहारा जब तू ही तो है मेरा रखवाला।

क्यों ना रहूँ मैं मदहोशी में चकचूर, जब तू ही तो है मुझे प्यार करनेवाला।

क्यों रहूँ मैं अकेला, क्यों फिरुँ आवारा ज़ब तू है मेरा सहारा।

गम नही मुझे हूँ मैं मझधार में तो, क्योंकि आखिर तू ही तो है मेरा किनारा।

दिल में क्यों ना उठे प्यार के सैलाब, के मेरी धड़कन जहाँ तू है।

क्यों करुँ मैं फिक्र मेरी जब तू सँभालनेवाला, क्यों डरु मैं जग से जब तू है हाथ थामनेवाला।
View Original
Increase Font Decrease Font
 
क्यों करुँ मैं फिक्र मेरी जब तू सँभालनेवाला, क्यों डरु मैं जग से जब तू है हाथ थामनेवाला।

क्यों ना आए अंत मेरी उलझनों का, कि तू है मेरी उलझने सुधारनेवाला।

कैसे टिके पास मेरे अँधेरा, के जहाँ तू है मुझे प्रकाश देनेवाला।

मस्ती में क्यों ना रहूँ हरदम, जब तू है मस्त रहनेवाला।

क्यों करुँ गिला-शिकवा किसीसे, जब तू ही तो मुझे प्यार करनेवाला।

क्यों लूँ ऐसे शस्त्र का सहारा जब तू ही तो है मेरा रखवाला।

क्यों ना रहूँ मैं मदहोशी में चकचूर, जब तू ही तो है मुझे प्यार करनेवाला।

क्यों रहूँ मैं अकेला, क्यों फिरुँ आवारा ज़ब तू है मेरा सहारा।

गम नही मुझे हूँ मैं मझधार में तो, क्योंकि आखिर तू ही तो है मेरा किनारा।

दिल में क्यों ना उठे प्यार के सैलाब, के मेरी धड़कन जहाँ तू है।



- संत श्री अल्पा माँ
Lyrics in English


kyōṁ karum̐ maiṁ phikra mērī jaba tū sam̐bhālanēvālā, kyōṁ ḍaru maiṁ jaga sē jaba tū hai hātha thāmanēvālā।

kyōṁ nā āē aṁta mērī ulajhanōṁ kā, ki tū hai mērī ulajhanē sudhāranēvālā।

kaisē ṭikē pāsa mērē am̐dhērā, kē jahām̐ tū hai mujhē prakāśa dēnēvālā।

mastī mēṁ kyōṁ nā rahūm̐ haradama, jaba tū hai masta rahanēvālā।

kyōṁ karum̐ gilā-śikavā kisīsē, jaba tū hī tō mujhē pyāra karanēvālā।

kyōṁ lūm̐ aisē śastra kā sahārā jaba tū hī tō hai mērā rakhavālā।

kyōṁ nā rahūm̐ maiṁ madahōśī mēṁ cakacūra, jaba tū hī tō hai mujhē pyāra karanēvālā।

kyōṁ rahūm̐ maiṁ akēlā, kyōṁ phirum̐ āvārā ja़ba tū hai mērā sahārā।

gama nahī mujhē hūm̐ maiṁ majhadhāra mēṁ tō, kyōṁki ākhira tū hī tō hai mērā kinārā।

dila mēṁ kyōṁ nā uṭhē pyāra kē sailāba, kē mērī dhaḍa़kana jahām̐ tū hai।