Home » All Hymns » ना की थी कल्पना जिसकी, आज हकिकत में इतना प्यार पाया है।
  1. Home
  2. All Hymns
  3. ना की थी कल्पना जिसकी, आज हकिकत में इतना प्यार पाया है।
Hymn No. 1947 | Date: 14-Jan-19971997-01-14ना की थी कल्पना जिसकी, आज हकिकत में इतना प्यार पाया है।https://www.mydivinelove.org/bhajan/default.aspx?title=na-ki-thi-kalpana-jisaki-aja-hakikata-mem-itana-pyara-paya-haiना की थी कल्पना जिसकी, आज हकिकत में इतना प्यार पाया है।
कहते है लोग आपको प्रभु प्यार का सागर, इस बात का मतलब कुछ कुछ समझ में आया है|
नही जानते थे प्यार को हम तो, आज हमने प्यार को पहचाना है|
प्रभु अब जाकर हमने अपनेआप, को खुशनसीब माना है|
भीगे तेरी कृपा के बरसात में, प्रभु तेरी कृपा से ना अब अनजान है|
अपना ना सकते थे जिस बात को, उन सब बातों को अपनाया है|
तू नही अनजान इस बात से, कि हमने पास तेरे आकर आनंद ही आनंद पाया है|
खोना और पाना क्या, हमने इसके गम को ही भूलाया है|
आया प्रभु तुझे के नही ये पता हमें नही, पर अपनेआप को अपना अंदाज़ पसंद आया है|
नहीं ड़र हमें अब कुछ खोने का कि खोया सबकुछ हमने वापस पाया है|
Text Size
ना की थी कल्पना जिसकी, आज हकिकत में इतना प्यार पाया है।
ना की थी कल्पना जिसकी, आज हकिकत में इतना प्यार पाया है।
कहते है लोग आपको प्रभु प्यार का सागर, इस बात का मतलब कुछ कुछ समझ में आया है|
नही जानते थे प्यार को हम तो, आज हमने प्यार को पहचाना है|
प्रभु अब जाकर हमने अपनेआप, को खुशनसीब माना है|
भीगे तेरी कृपा के बरसात में, प्रभु तेरी कृपा से ना अब अनजान है|
अपना ना सकते थे जिस बात को, उन सब बातों को अपनाया है|
तू नही अनजान इस बात से, कि हमने पास तेरे आकर आनंद ही आनंद पाया है|
खोना और पाना क्या, हमने इसके गम को ही भूलाया है|
आया प्रभु तुझे के नही ये पता हमें नही, पर अपनेआप को अपना अंदाज़ पसंद आया है|
नहीं ड़र हमें अब कुछ खोने का कि खोया सबकुछ हमने वापस पाया है|

Lyrics in English
nā kī thī kalpanā jisakī, āja hakikata mēṁ itanā pyāra pāyā hai।
kahatē hai lōga āpakō prabhu pyāra kā sāgara, isa bāta kā matalaba kucha kucha samajha mēṁ āyā hai|
nahī jānatē thē pyāra kō hama tō, āja hamanē pyāra kō pahacānā hai|
prabhu aba jākara hamanē apanēāpa, kō khuśanasība mānā hai|
bhīgē tērī kr̥pā kē barasāta mēṁ, prabhu tērī kr̥pā sē nā aba anajāna hai|
apanā nā sakatē thē jisa bāta kō, una saba bātōṁ kō apanāyā hai|
tū nahī anajāna isa bāta sē, ki hamanē pāsa tērē ākara ānaṁda hī ānaṁda pāyā hai|
khōnā aura pānā kyā, hamanē isakē gama kō hī bhūlāyā hai|
āyā prabhu tujhē kē nahī yē patā hamēṁ nahī, para apanēāpa kō apanā aṁdāja़ pasaṁda āyā hai|
nahīṁ ḍa़ra hamēṁ aba kucha khōnē kā ki khōyā sabakucha hamanē vāpasa pāyā hai|

Explanation in English
O Lord ,not have imaginated, has found so much love in reality today,
It is said that Lord, you are the ocean of love have understood the meaning of that today
We did not know love, so today we have recognized love
Lord, now we have considered ourselves lucky
We are now soaked in the fruit of your grace, Lord, we are no longer unaware of your grace
Things we could not accept, we have accepted, those things
You are not ignorant of the fact that we have found happiness by coming near you
What to lose and get, have we forgotten its sorrow
We don't know whether you liked Lord or not, but we have liked our style
We have not the fear of loosing anything ,as we have regained everythiing that we have lost